Google Core Update History

Google Core Update history

तो आज हम अपने इस ब्लॉग में आपसे Google Core Update के बारे में जानकारी साझा करेंगे
गूगल बाकी किसी भी सर्च इंजन से इतना आगे क्यों है। क्यों दुनिया के आधे से ज्यादा इंटरनेट यूजर अपनी क्वेरी सर्च करने के लिए गूगल का उपयोग करते है ?

इसका एक मुख्य कारण है की अपने यूजर(Users) की खोज (Search Query) को और बहेतर दिखने के लिए Google लगातार अपने एल्गोरिथ्म में बदलाव करता रहता है।

और उसमे हमेशा वर्तमान की स्तिथि को देखते हुए नए नए अपडेट लता रहता है । किसी भी वेबसाइट के seo को करने के लिए आपको Google Core Update से परिचित होना बहुत जरुरी है। ताकि आप जब भी seo करे तो वो गूगल के नियम के मुताबिक ही हो अन्यथा आपको थोड़ी समस्या भी हो सकती है

तो चलिए शुरू करते है 🙂

Google Panda Update (2011)

GOOGLE PANDA UPDATE

ये गूगल का पहला बड़ा अपडेट था वैसे तो गूगल छोटे मोटे अपडेट लगभग हर महीने ही करता है। लेकिन ये पहला बड़ा अपडेट था। तो इस अपडेट में गूगल पांडा उन websites को दंडित (penalized) करता है जो इन नियमो को पूरा नहीं करती है और उनमे कुछ कमियाँ है जैसे

  • ऐसी Website जिनमे thin कंटेंट है मतलब उस वेबसाइट में पर्याप्त कंटेंट न होना
  • ऐसी Websites जिनमे कंटेंट तो है लेकिन उसमे विज्ञापन(Ads) भी बहुत दिखाई देते है
  • ऐसी वेबसाइट जिसमे कंटेंट तो है लेकिन वो इतना भरपूर नहीं है की यूजर को उससे मदद मिल पाए और उसको पूरी जानकारी वहां से मिल पाए। एक तरह से कहे तो ऐसी वेबसाइट जिसमें Weak content हो
  • इसमें गूगल Panda यह सुनिश्चित करता है की यूजर द्वारा खोजी गयी क्वेरी की जानकारी उस वेबसाइट में मौजूद है या नहीं कही वो साइड स्पैम के रूप में काम तो नहीं कर रही
  • Venice (2012) Update

    इस Update को लाने का मुख्य कारण था, स्थानीय (Local) searches को वरीयता देना। क्यूँकि Google ने अपने विश्लेषण में यह पाया की यूजर कभी कभी अपने स्थानीय चीजे ढूंढ रहे है। और उसे काफी महेनत करनी पड़ रही है चीजे ढूंढ़ने में।

    इसी मुश्किल का समाधान निकलने के लिए गूगल ने अपना दूसरा अपडेट Venice के रूप में किया।
    इसमें गूगल ने स्थानीय साइट्स को पहले दिखाना शुरू कर दिया चाहे आपने क्वेरी में अपनी लोकेशन न भी डाली हो गूगल आपकी IP के मदद से लोकेशन ट्रैक करके आपके पास की चीजे ही अपने सामने प्रस्तुत करता है। उदहारण के लिए :-

    आपने गूगल पर सर्च किया barber shop (नाइ की दुकान) तो गूगल आपकी लोकेशन ट्रैक करके आपके स्थानीय परिणाम दिखायेग, और आपको अपने पास में मौजूद सभी barber shop का विवरण दिखाई देने लगेगा चाहे अपने क्वेरी में अपनी लोकेशन न डाली हो।

    Penguin Update (2012)

    ये एक ही साल में दूसरा बड़ा अपडेट था इस अपडेट का मुख्य उद्देश्य भ्रष्टाचार को ख़त्म करना और पारदर्शिता लाना था । क्यूंकि पहले बहुत से वेबसाइट गूगल के SERP (Search Engine Result Page) में रैंक करने के लिए Artificial Backlinks का प्रयोग करते थे। लोग इसे एक शॉर्टकट के रूप में प्रयोग करते थे।

    इस में गूगल bot हर वेबसाइट को crawl करने के दौरान यह भी चेक करता है की उस वेबसाइट मौजूद backlink वास्तविक है या नहीं। कही उन्हें सिर्फ गूगल bot को भ्रमित करने के लिए तो नहीं बनाया गया है।

    साथ ही साथ यह भी सुनिश्चित करता है की जो Backlink मौजूद हो आपके टॉपिक या वेबसाइट से सम्बंदिध वेबसाइट से ही आये हो। मतलब अगर इस तरह की कोई भी गतिविधि पायी जाती है तो Google उस वेबसाइट को दंडित (Penalized) करता है।

    इंटरनेट पर आपको ऐसी तमाम वेबसइट मिल जाएँगी जो Paid Backlink Generate करने का काम करती है। जो की आपकी website के लिए बहुत ही नुकसान दायक होता है।

    Hummingbird Update (2013)

    इसमें में गूगल ने एक नया फीचर जोड़ा जो LONG TAIL KEYWORD पर फोकस करता है क्यूँकि Google Assitacne (Voice Search) लॉन्च होने बाद से गूगल सर्च में Long Query बहुत आने लगी थी और उस qurey को समझने और उसका बहेतर परिणाम दिखाने में Google BOT को समस्या आ रही थी।

    इसी समस्या को सुलझाने के लिए Hummingbird update को लॉन्च किया गया इस अपडेट के बाद गूगल BOT किसी qurey के हर शब्द पर विशेष ध्यान देते थे और सबसे अधिक मिलते जुलते परिणाम दिखते थे।

    Pigeon Update (2014)

    इसका मुख्य उद्देश्य LOCAL BUSINESS को बढ़ावा देना तथा उन्हें गूगल के SERP में प्राथमिकता देना। इस अपडेट के बाद गूगल का प्रयोग और भी यूजर friendly गया।

    इसमें आपके BUSINESS की लोकेशन, टाइम और फोटो, फ़ोन नंबर सीधे गूगल मैप में जोड़ दी जाती है जिससे जरुरतमंद लोगो को आप के बिज़नेस लोकेशन तक पहुंचने में आसानी हो। इससे जब यूजर आपके BUSINESS LOCATION सर्च करेगा तब उसे वहां से उचित दूरी, तथा समय का अंदाजा लग जायेगा

    वैसे इस प्लेटफॉर्म को यूज़ करने के अनगिनत फायदे है सबसे बड़ी बात की ये बिलकुल मुफ्त (FREE) है

    Mobilegeddon Upade (2015)

    वेबसाइट को मोबाइल के अनुकल रखने के लिए Mobilegeddon Upade को लाया गया। क्यूँकि गूगल द्वारा किये गए सर्वे अनुसार 2015 तक गूगल में जो queries आयी थी उनमे 55% से लेकर 60% मोबाइल डिवाइस से थी तब गूगल ने समझा की वेबसाइट का मोबाइल अनुकूल होना बहुत जरुरी है

    Google Core Update में हमेशा सबसे ज्यादा यूजर की सहुलियत का ध्यान रखा जाता है

    Mobilegeddon Upade के बाद से उन वेबसइटों की रैंकिंग डाउन हो गयी जो मोबाइल फ्रेंडली नहीं थी। और तभी से वेबसाइट ओनर ने भी इस पर ध्यान देना शुरू किया और वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनाया

    इसको चेक करने GOOGLE ने बकायदा अपना टूल बनाया है जिसकी मदद से आप भी चेक कर सकते है की आपकी वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली है
    यहाँ क्लिक करे

    MOBILE FRIENDLY TEST

    RankBrain (2015)

    इस अपडेट को लाने का उद्देश्य ये था की गूगल में आने वाली 15% से 20% Queries ऐसी थी जिनका गूगल के पास संतुष्ट जवाब नहीं था और इस समस्या को सुलझाने के लिए RankBrain अपडेट लाया गया।

    RankBrain, गूगल की आधुनिक एल्गोरिथ्म है जो की गूगल में आने वाली क्वेरी को मशीन लर्निंग माध्यम से व्यवस्थित करके बहेतर परिणाम दिखता है। ये एक AI [आर्टिफिशल इंटेलिजेंस] पर निर्भर एल्गोरिथ्म है इसी कारण ये उन शब्दों की पहचान कर सकता जो गूगल क्वेरी से सबसे अधिक मिलते जुलते है जिससे की आपकी वेबसाइट पर आर्गेनिक ट्रैफिक बढ़ने के चांस होते है और RankBrain अपडेट के बाद से जिन वेबसाइट पर आर्गेनिक ट्रैफिक ज्यादा आता है गूगल उन्हें खुद ही रैंक करता है।

    AdWords Update (2016)

    ये अपडेट यूजर के हिसाब से ज्यादा मायने नहीं रखता था क्यूँकि इस अपडेट में गूगल ने paid search listing की जगह को बदल दिया था पहले गूगल में जितने भी paid websites है वो वेबसाइट के दाहिनी ओर आते थे। लेकिन इस अपडेट के बाद से गूगल ने इसकी जगह बदल दी और अब ये गूगल की SERP की listing के साथ ही सबसे ऊपर दिखाई देता है

    Fred Update (2017)

    ये गूगल की CORE ALGORITHM में किया गया ऐसा बदलाव था जिससे न जाने कितने वेबसाइटों की रैंकिंग पर प्रभाव डाला और रातो रात उनकी पोजीशन में फर्क आया। और इसका सबसे ज्यादा नुकसान उन WEBSITES को उठाना पढ़ा जो सिर्फ गूगल से पैसे कमाने के मकसत से बानी थी ना की यूजर को इनफार्मेशन देने के लिए। इस अपडेट में गूगल ने उन website को टारगेट करना शुरू किया जो बहुत कम कंटेंट और बहुत ज्यादा से विज्ञापन से भरी थी।

    ऐसी वेबसाइट जिन पर लोगो को ऐड पर क्लिक करवाने के लिए ऐड को किसी बटन या Attractive तरीके से दिखते थे ताकि लोग भ्रमित होकर उस पर क्लिक करे

    Medic Update 2018

    ये 2018 में आया गूगल का एक और बड़ा अपडेट था इसमें ज़्यदातर ऐसी websites को टारगेट करना शुरू किया जो हेल्थ,वित्तीय सलाह और YAML (Your Money Your Life) के निच पर थी ।

    हालांकि गूगल ने अपने आधिकारिक बयान में ऐसा कुछ भी नहीं कहा की वो इस अपडेट में क्या करने वाले है लेकिन विश्लेषण करने के बाद ये पाया गया की जो वेबसाइट medical and health के निच पर बानी थी उनकी रैंकिंग डाउन हो गयी।

    शोध में ये पता चला कि आपकी साइट को ठीक करने के लिए खुद से कुछ भी नहीं किया जा सकता है, इसलिए आपको बस एक शानदार अनुभव बनाने, बेहतर कंटेंट और यूजर फ्रेंडली वेबसाइट बनाने पर ध्यान देना चाहिए।

    BERT Update (2019)

    BERT जिसका पूरा नांम (Bidirectional Encoder Representations from Transformers) है ये गूगल की एल्गोरिथ्म में पिछले 5 सालों में सबसे बड़ा बदलाव था। ये अपडेट यूजर की खोज को और बेहतर बनाने के लिए था,

    इसमें यूजर द्वारा लिखे गए कीवर्ड के पहले और बाद में आने वाले शब्द की BERT पहचान करता था और वो भी यूजर की स्थानीय भाषा (Local Language ) में। BERT अपडेट की मदद से Google ने प्राकृतिक भाषा की अपनी समझ में सुधार किया।

    इसका मुख्य उद्देश्य LONG TAIL KEYWORD पर फ़ोकस करना था BERT को सही से समझाने के लिए गूगल ने कुछ उदाहरण दिए है BERT’s impact:

    Google Core Update January (2020)

    एक बार फिर से जनवरी 2020 में गूगल ने ट्विटर के माध्यम से बताया की वो अपनी एल्गोरिथ्म में बड़ा अपडेट करने जा रहे है जिसे January 2020 Core Update नाम दिया गया।

    Google Core Update January
    Tweet From Google SearchLiaison

    Google Core Update May (2020)

    इस Core Update में बहुत से websites की रैंकिंग डाउन हो गयी और बहुत सी ऐसी websites है जिनकी रैंकिंग अप हो गयी।
    ऐसी वेबसाइट जो multiple Niche पर काम कर रही थी उन websites को नुकसान हुआ।

    और वो वेबसाइट जो फोकोस Niche मतलब एक ही निच पर काम करती थी उनपर कोई फर्क नहीं पड़ा बल्कि उनकी रैंकिंग में इजाफा हुआ
    इसमें गूगल इस बात पर और जोर दिया की वेबसाइट में जो भी डाटा ही वो यूजर फ्रेंडली हो और वो चाहे वेबसाइट का कंटेंट हो इमेज हो पीडीऍफ़ हो या फिर वीडियो।

    Google Core Update

    नवंबर 2017 में गूगल ने Search Liaison नाम से अपना ट्विटर अकाउंट घोषित किया जिसकी मदद से गूगल में होने वाले Update की घोषणा की जानकारी सीधे लोगो तक पहुंचने लगी।

Abhishek kumar

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!